t

पवित्र विचार तथा नियमित अभ्यास ही ज्ञान को ग्रहण करने का एकमात्र मार्ग है।


error: